soch

soch

Thursday, April 14, 2011

ज़िन्दगी से शिकायत


ज़िन्दगी से शिकायत किस शख्स को नहीं होती
कर दे हर हसरत पूरी ज़िन्दगी की ऐसी फितरत नहीं होती ,
ख्वाब तोह दिखा देती है ज़िन्दगी पर हर ख्वाब की मंजिल नहीं होती
तमन्नाये कुछ ऐसी भी होती हैं जो कभी हासिल नहीं होती .

3 comments:

वन्दना said...

यही तो ज़िन्दगी की फ़ितरत होती है…………बहुत सुन्दर भावाव्यक्ति।

shona said...

शुक्रिया वंदना दीदी सराहना के लिए

संजय भास्कर said...

बहुत खूब .जाने क्या क्या कह डाला इन चंद पंक्तियों में