soch

soch

Sunday, July 29, 2012

बी प्रक्टिकल


बी  प्रक्टिकल
यही तो कहा था उसने मुझे 
दिल तो लगाया मुझसे पर कहा 
दिमाग से सोचो 
बी  प्रक्टिकल
खुद तो रोया रात्तो को जाग जाग कर
मुझे ना रोने दिया कहा 
बी  प्रक्टिकल
कर दिया निसार सब कुछ अपना मेरे लिए 
और मुझे कहता है 
बी  प्रक्टिकल
मेरी सब निशानिया संभल बैठा है 
और कहता है जला दो सभी ख़त मेरे क्योकि ........
बी  प्रक्टिकल
कहता है 
समाज नहीं देगा मंजूरी अपने रिश्ते को 
खुश रह तू है जिसके साथ 
बी  प्रक्टिकल
क्या प्यार कभी सेलरी के पांच अंको से तय होता है 
क्या प्यार दिमाग से होता है 
प्यार तो एक जनून है
जज्बा है 
समझो तो समझो मग ..........
हम तो नही समझेगे 
तुम रहो ताउम्र
बी  प्रक्टिकल
 

4 comments:

ana said...

bahut sundar.....behtarin

vipin sethi said...

thx ana jee

Shah Nawaz said...

वाह! क्या बात है...

vipin sethi said...

शुक्रिया शाह जी पड़ने और पसंद करने के लिए